#
सब्जियां

सब्जियां - Vegetable

Vegetable: सब्जियां पौधों का वह भाग हैं जिनका प्रयोग भोजन के रूप में किया जाता है। सब्जियों का सेवन कच्चा या पकाकर किया जा सकता है, और सब्जियां मानव पोषण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। ज्यादातर सब्जियों में वसा और कार्बोहाइड्रेट कम होते हैं, लेकिन विटामिन, खनिज और dietary फाइबर प्रचुर मात्रा में होते हैं। कई पोषण विशेषज्ञ(Dietician/Nutritionist) लोगों को पर्याप्त मात्रा में सब्जियों का सेवन करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं।

सब्जियां: सब्जियां प्राचीन काल से मानव आहार के रूप में प्रयोग की जाती रही हैं। सब्जी अपने अनूठे स्वाद के साथ भोजन में विविधता तो लती ही है साथ ही साथ, स्वास्थ्य के लिए आवश्यक पोषक तत्वों की कमी को भी पूरा करती है। कुछ सब्जियां बारहमासी होती हैं लेकिन अधिकांश वार्षिक और द्विवार्षिक होती हैं, सब्जी आमतौर पर बुवाई या रोपण के एक वर्ष के भीतर तैयार हो जाती है।

सब्जियों के उदाहरण

पालक, चुकंदर, पत्तागोभी, लेटूस , मूली, आलू, प्याज, फूलगोभी, शलजम, गाजर, टमाटर, कद्दू, शतावर, शिमला मिर्च, मिर्च, भिंडी, चोलाई, बेंगन, शकरकंद, डोलीचोज बीन्स, ग्वार, विंगड़ बीन्स आदि।

हरी सब्जियों का महत्व

पत्तीदार हरी शाक-सब्जियाँ शरीर के समुचित विकास एवं स्वास्थ के लिए अत्यंत आवश्यक होती है, क्योंकि इसमें जरुरत के सभी पोषक तत्व पाए जाते हैं। भारत में कई प्रकार की सब्जियों को खाया जाता है, इनमे से कुछ हैं पालक, मेथी, बथुआ, धनिया,चौराई, सहजन की पत्तियाँ और पुदिना आदि। पत्तेवाली सब्जियां प्रचुर मात्रा में लौहयुक्त होती हैं । लौह की कमी से एनीमिया जैसी बीमारी हो सकती है, जो गर्भवती स्तनपान करानेवाली महिलाओं में आम है।

हरी पत्तेदार सब्जियों में कैल्शियम, बीटा कैरोटिन एवं विटामिन सी भी पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है। हरी सब्जियों में विटामिन सी को बचाये रखने के लिए उन्हें ज्यादा देर तक पकाना अनुचित है, क्योंकि पोषक तत्व जो मसूड़े को शक्ति प्रदान करते हैं, अधिक पकाने से नष्ट हो जाते हैं।